न्यूज़ डेस्क- मेरठ- एक महीने पहले आसाम में पेट्रोलिंग के दौरान शहीद हुए मेरठ के छावनी क्षेत्र निवासी लेफ्टिनेंट आकाश चौधरी के परिजनों ने प्रदेश सरकार पर अपने बेटे की शहादत को भूल जाने का आरोप लगाया है। सरकार की बेरुखी से आहत शहीद का परिवार शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में धरना देने पर मजबूर हो गया। शहीद के परिजनों ने छावनी क्षेत्र में शहीद आकाश की मूर्ति लगाए जाने और शहर की किसी एक सड़क का नामकरण अपने शहीद बेटे के नाम पर किए जाने की मांग की है |

बताते चलें मेरठ के कंकरखेड़ा सिल्वर सिटी कॉलोनी निवासी लेफ्टिनेंट आकाश चौधरी बीती 17 जुलाई को आसाम में पेट्रोलिंग के दौरान पहाड़ी से गिरकर शहीद हो गए थे। शुक्रवार को शहीद के पिता कंवरपाल सिंह और मां कमलेश के साथ शहीद की बड़ी बहन ने कलेक्ट्रेट परिसर में धरना दे दिया। परिजनों ने प्रदेश सरकार पर अपने बेटे की शहादत को भूल जाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि उनके बेटे की शहादत के 34 दिन बाद भी प्रदेश सरकार के किसी नुमाइंदे ने उनकी सुध नहीं ली |

शहीद के परिजनों ने छावनी क्षेत्र में अपने शहीद बेटे की प्रतिमा स्थापित किए जाने और शहर की किसी एक सड़क का नाम अपने शहीद बेटे के नाम पर रखे जाने की मांग की, जिससे जिले के लोग हमेशा उनके बेटे की शहादत को याद रख सकें और उन्हें भी हमेशा अपने बेटे की शहादत पर गर्व महसूस हो। इस दौरान शहीद के परिजनों से मिलने पहुंचे सपा नेता अतुल प्रधान ने भी प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए इसे शहीदों का अपमान बताया। उन्होंने शहीद के परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया।