उत्तर प्रदेश राज्य के बेसिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत आने वाले कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय (केजीबीवी) में कार्यरत एक शिक्षिका का वेतन 1 करोड़ निकला. इसके लिए शिक्षिका प्रदेश के 25 स्कूलों में एक साथ नौकरी कर वेतन पा रही थी.

ये मामला संज्ञान में तब आया जब विभाग ने शिक्षकों का डेटाबेस बनाना शुरू किया और यदि ऐसा न होता तो शायद ही ये मामला सामने आया होता,अब विभाग ने इस पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं.

बेसिक शिक्षा विभाग के अनुसार, अब शिक्षकों का डिजिटल डेटाबेस बनाया जा रहा है और इस प्रक्रिया के दौरान केजीबीवी में काम करने वाली पूर्णकालिक शिक्षिका अमेठी,अंबेडकरनगर, रायबरेली, प्रयागराज, अलीगढ़ और अन्य जिलों में एक साथ 25 स्कूलों में काम करती हुई पाई गईं.

इस हैरान कर देने वाले मामले ने सब को चौंका कर रख दिया है,और इस खबर के बाद प्रशासन में खलबली मच गई है,क्योंकि जहां एक तरफ एक अदद सरकारी नौकरी के भी लाले पड़ रहे हों वहां कोई स्कूलों में कैसे नौकरी कर सकता है?