न्यूज़ डेस्क -(मेरठ) देशभर में लॉक डाउन के बाद जहां प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री द्वारा गरीबों को राशन के लिए किसी भी प्रकार की किल्लत ना होने का दावा किया जा रहा है। वहीं, कुछ सरकारी सस्ता गल्ला विक्रेता पीएम और सीएम के इन दावों को पलीता लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। ऐसा ही एक मामला नौचंदी थाना क्षेत्र से सामने आया है। जहां तीन महीने से राशन ना मिलने पर आज उपभोक्ताओं ने सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान पर हंगामा कर दिया। जिसके बाद मौके पर पहुंची आपूर्ति विभाग की टीम ने दुकान पर काम करने वाले दो कर्मचारियों को पुलिस के हवाले कर दिया। आपूर्ति विभाग के अधिकारी अजय कुमार के मुताबिक सरकारी सस्ता गल्ला विक्रेता के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है।

दरअसल शास्त्री नगर सेक्टर नौ में संजीव कुमार गुप्ता की सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान है। क्षेत्रीय निवासियों का आरोप है की दुकान संचालक पिछले दो महीनों से उनसे लगातार मशीन में अंगूठा लगवा लेता है, मगर उन्हें अब तक राशन नहीं मिला है। शहर में लॉक डाउन के चलते राशन के लिए परेशान उपभोक्ता आज दुकान पर राशन लेने पहुंचे। आरोप है कि कुछ उपभोक्ताओं को राशन देने के बाद दुकान पर मौजूद कर्मचारियों ने राशन खत्म होने की बात कहकर हाथ खड़े कर दिए। जिसके बाद क्षेत्र के लोगों ने हंगामा करते हुए पुलिस बुला ली। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना की जानकारी आपूर्ति विभाग की टीम को दी।

जिसके बाद जिला आपूर्ति अधिकारी अजय कुमार अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। डीएसओ ने बताया कि शिकायत के आधार पर कार्रवाई करते हुए दोनों कर्मचारियों को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। इसी के साथ राशन विक्रेता के खिलाफ भी कार्यवाही की जा रही है।