दिल्ली के शाहीन बाग में केंद्र सरकार और प्रदर्शनकारियों के बीच सुलह का रास्ता खुलने की उम्मीद बढ़ गयी है ,लेकिन यह सुलह सिर्फ बिल वापिस होने क के बाद ही मुमकिन है ,सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और वरिष्ठ वकील साधना रामचंद्रन बुधवार को शाहीन बाग पहुंचे हैं उन्होंने प्रदर्शनकारियों से बात की है ।

शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों से मुलाकात के बाद वार्ताकार साधना रामचंद्रन ने कहा कि “हमने आज शाहीन बाग में माताओं, बहनों और नागरिकों से पहली मुलाकात की बहुत अच्छा लगा आज बात तो पूरी हो नहीं पाई,आज शुरूआत ही हुई है वो चाहते हैं कि हम कल दोबारा आए,हम कल दोबारा आएंगे”

इससे पहले जब वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों से पूछा कि रास्ता कैसे खुलेगा, तो प्रदर्शनकारियों ने कहा कि जब तक नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) वापस नहीं लिया जाता है, तब तक हम एक इंच भी पीछ नहीं हटेंगे,प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हम पर देशद्रोही होने का आरोप लगाया जा रहा है,कुछ लोग हमको गोली मारना चाहते हैं।उन्होंने कहा कि हम देशद्रोही नहीं हैं, बल्कि देशभक्त हैं।

हमने अंग्रेजों से लोहा लिया है वहीं, इससे पहले जब वार्ताकार शाहीन बाग के प्रदर्शन मंच पर पहुंचे, तो लोगों ने उनका तालियां बजाकर स्वागत किया। सभी प्रदर्शनकारियों ने बहुत सहयोगी व्यवहार दिखातें हुए वार्ताकारों से बातचीत की ।