चीन के वुहान से पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा कोरोना वायरस हिंदुस्तान की जमीन पर हंगामी सूरते हाल से गुजर रहा है. दुनिया के हाल से वाकिफ देश व राज्यों के हुक्मरानों ने इस पर शिकंजा कसने के लिए लिए कई सख्त कदम उठाए हैं. इसके मद्देनजर दिल्ली सहित कई राज्यों ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी है. इसके तहत तमाम धार्मिक जगहों पर पाबंदी लगाने का भी ऐलान किया है, ताकि भीड़ ना जुटे.

दिल्ली के ओखला में सोमवार को जौहरी फार्म की जामा मस्जिद के मुअज्जिन ने सब लोगों को अपने घर पर ही नमाज पढ़ने की सलाह दी. असर की नमाज के बाद मुअज्जिन ने ये ऐलान किया कि आपलोग घर पर ही नमाज पढ़ें, जिस पर मौजूद सभी लोगों ने सहमति जताई. वहीं दिल्ली की जामा मस्जिद से भी इस बाबत ऐलान किया गया.

दरअसल, कोरोना वायरस के कहर से बचने के लिए सऊदी अरब ने उमरा पर भी अस्थाई रूप से पाबंदी लगा दी है. इसकी वजह से मक्का में हरम शरीफ वीरान हो गया है. मालूम हो कि दुनिया भर के मुसलमान हज के अलावा उमरा के लिए सऊदी अरब के मक्का और मदीना जाते हैं.

मक्का के हरम शरीफ में लोग चौबीसों घंटे काबा की परिक्रमा करते हैं. साल भर हजारों की भीड़ में लोग वहां एक साथ तवाफ करते हैं, लेकिन कोरोना के भयावह रूप सामने आने के बाद सऊदी अरब की हुकूमत ने इस पर पाबंदी लगा दी है. इसके अलावा वहां दूसरी बड़ी मस्जिदों में जमात में नमाज पढ़ने से बचने को कहा गया है.

वहीं, पश्चिम एशिया की कई बड़ी मस्जिदों में नमाज पर रोक लगा दी गई है. दरअसल, मस्जिदों में नमाज पर पाबंदी इसलिए लगाई जा रही है, क्योंकि लोग मस्जिदों में जमात में नमाज पढ़ते हैं. कोरोना जैसी महामारी को फैलने से रोकने के लिए लोगों से जमात में नमाज अदा करने से दूर रहने की अपील की जा रही है.